परशुराम जयन्ती कार्यक्रम

सहारनपुर – १२ मई ।  भगवान परशुराम जयंती के अवसर पर सहारनपुर में विभिन्न संस्थाओं द्वारा जयंती कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।  अखिल भारतीय ब्राह्मण संगठन द्वारा भूतेश्वर मार्ग पर स्थित भगवान परशुराम चौक पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए लोकप्रिय नगर विधायक राघव लखनपाल शर्मा ने कहा कि भगवान परशुराम मात्र ब्राह्मणों के ही नहीं, अपितु संपूर्ण विश्व के प्राणिमात्र के लिये पूजनीय एवं वन्दनीय हैं।  उनका अवतार मानवता की रक्षा और विश्व के कल्याण के लिये हुआ था।  इस अवसर पर बोलते हुए ब्राह्मण संगठन के मुख्य राष्ट्रीय संयोजक पं. विजय शर्मा ने कहा कि ब्राह्मण का स्थान शरीर में मस्तक पर है और उसका उत्तरदायित्व है कि वह समाज रूपी शरीर को सही ढंग से संचालित रखते हुए स्वस्थ रखे।  शरीर की भांति यदि पूरा समाज एक सूत्र में संगठित नहीं रहेगा तो पूरा समाज ही कमजोर होगा और नाना प्रकार की बीमारियां उसे घेर लेंगी जैसा कि आज समाज में दृष्टिगोचर हो रहा है।   शर्मा ने सामाजिक समरसता, राष्ट्रीय एकता व अखंडता की रक्षा अथा प्राचीन सनातन भारतीय संस्कृति, सभ्यता व उनके प्रतीकों को पुनर्स्थापित करने की आवश्यकता पर बल दिया।
कार्यक्रम में बोलते हुए पूर्व विधायक सुरेन्द्र कपिल ने कहा कि वर्तमान कष्टकारी परिस्थितियों में हमारी संस्कृति एवं सभ्यता नष्ट हो रही है और निहित स्वार्थ के वशीभूत सामाजिक समरसता पर आघात किये जा रहे हैं।  ब्राह्मण महासभा के प्रदेश अध्यक्ष गोकरण दत्त शर्मा, एडवोकेट ने भगवान परशुराम के जीवन-चरित का काव्यरूप में बखान किया और उनके उदात्त आदर्शों को जीवन में उतारने की आवश्यकता बताई।  अखिल भारतीय ब्राह्मण संगठन के कर्मकांडी प्रकोष्ठ के संयोजक पं. वाचस्पति पोखरियाल, चिकित्सक प्रकोष्ठ के संयोजक डा. महेश शर्मा व जिला संयोजक नंद किशोर शर्मा ने परशुराम जी के जीवन चरित्र पर प्रकाश डाला और आज के परिप्रेक्ष्य में उनकी आवश्यकता अनुभव की।
इस से पूर्व पं. कमल नैन वेदपाठी के मंत्रोच्चार के साथ युवा समाजसेवी प्रणव शर्मा ने अतिथियों का स्वागत किया।  कार्यक्रम में सर्वश्री बिशंभरदयाल शर्मा, डा. आर.सी. सैनी, दीपक गुप्ता, विजेन्द्र पंडित, पत्रकार राजेन्द्र शर्मा, सतीश शाह, कमल कुमार कश्यप, डा. विकास सिंहल, जितेन्द्र मोनू, सुदेश गोयल, डा. रविशरण शर्मा आदि ने परशुराम जी और शिवाजी के चित्रों पर पुष्पाहार अर्पित किये।  इस अवसर पर भाजपा नेता तेज कुमार क्वात्रा व अनेश शर्मा ने भी सभा को संबोधित किया।   कार्यक्रम की अध्यक्षता से.नि. वयोवृद्ध शिक्षक चमन लाल सैनी ने की व संचालन पं. विजय शर्मा ने किया।

वहीं, राष्ट्रीय युवा ब्राह्मण महासभा उ.प्र. की ओर से बृजेश नगर स्थित कार्यालय पर आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए महासभा के प्रदेश अध्यक्ष पं. मुकेश कपिल ने बताया कि भगवान परशुराम अक्षय तृतीया के दिन ऋषि जमदग्नि और रेणुका के घर में अवतरित हुए थे जिन्होंने आतंकी प्रवृत्ति के तत्कालीन क्षत्रिय राजाओं से धरती को २१ बार मुक्त कराया था।  महासभा के मंडल संरक्षक आचार्य पं. शिवकुमार शास्त्री के अनुसार यदि अन्याय के विरुद्ध क्रोध न आये तो उसे भीरुता कहा जायेगा – शांतिप्रियता नहीं !  पं. सोमप्रकाश शर्मा ने कहा कि भगवान परशुराम सनातन हैं जो त्रेता युग में भगवान राम के समकालीन भी रहे और द्वापर में भगवान श्रीकृष्ण के साथ भी रहे।   उन्होंने बताया कि भगवान परशुराम भगवान विष्णु के छटे अवतार माने जाते हैं और उनका अवतार भगवान राम और कृष्ण से भी पहले हुआ था, अतः उनकी पूजा सबसे पहले की जानी चाहिये।
कार्यक्रम की अध्यक्षता पं. नरेन्द्र शर्मा ने एवं संचालन विपिन शर्मा ने किया।  कार्यक्रम में हरिओम मिश्रा, सोमपाल दुर्वासा, प्रवेश कपिल, पं. रामकुमार आदि ने भी सभा को संबोधित किया।   कार्यक्रम में अरुण कपिल, यतेन्द्र शर्मा, राजेन्द्र मिश्रा, राकेश शर्मा, ओमपाल शर्मा, संदीप शर्मा, समीर कपिल, अमित शर्मा आदि की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s