Career Counselling Seminar

dSREdotCom members honouring the Commissioner Bhuvnesh Kumar

dSREdotCom members honouring the Commissioner Bhuvnesh Kumar

Students of Saharanpur are no less in terms of talent with anyone, yet, in absence of proper education, training and guidance, majority of them do not get what they have potential for.  But not anymore.  RAMSA and the saharanpur.com, ably supported by Glocal University have drawn a road map to reach out to the students of not only cities, but also suburbs and villages of the district Saharanpur for career related guidance.  The three came together, decided to work and move together in right earnest today at a seminar on the topic Importance of Career Counselling at Clark Hotel auditorium, Dehradun Road, Saharanpur in which various principals, teachers, educationists and parents participated.

The Commissioner of Saharanpur  Bhuvnesh Kumar, IAS stressed the need of making students aware of various career options at an early age and of helping them in making a suitable choice to bring out the best hidden in them.  “Children, when asked about their career choice, often talk of becoming IAS, doctor, engineer, CA etc.  But when asked who their role models are, their list contains the names – Sachin Tendulkar,  Amitabh Bachhan,  Saina Nehwal  and Salman Khan!  Why sports and entertainment industry cannot be excellent career choice?  Quizzed the Chief Guest Bhuvnesh Kumar.  He also enquired from the representatives of different schools if they have got a functional career counseling cell at their end, for, schools are the most ideal place for providing career counselling to students, Mr. Kumar added.

Prof. Seema Dheer of Punjab Technical University, Dr. Aiyaz of Glocal University talked of myriad of career opportunities in agriculture and law respectively.  Dr. Inderjeet Gupta, with the help of power point presentation, laid the foundation of the discussion and told that career counseling is not a onetime process but is a lifelong activity since with changing technologies, changing circumstances and ever changing level of education and experience, new avenues open up before us.  What is good for us today may not be good tomorrow also.  We should not only be able to adapt ourselves to the changing circumstances, we should explore and utilize them in our favour also.

The Commissioner lighting the lamp

Sushant Singhal,  founder editor of The Saharanpur Dot Com,  told the gathering that aim of thesaharanpur dot com is to make Saharanpur a respectable brand name so that all products of Saharanpur – including the students, are looked at with respect and confidence in different parts of the world. Whatever is being produced in Saharanpur should carry an invisible ISI mark and students of Saharanpur are no exception.  If we take their good care, offer them proper guidance and training they deserve, they would start receiving preferential treatment over others.  The Saharanpur Dot Com and Rashtriya Madhyamik Shiksha Abhiyan, with the help of Glocal University will cover the entire range of Hindi and English medium schools in Saharanpur district for this very purpose.

Mr. Manish Kumar,  Branch Manager, HDFC Bank, Gangoh also spoke of his experience when he was scoffed at by his own well-meaning parents and relatives when he revealed ‘agriculture’ as his career choice.  Isn’t agriculture a great career choice?  After all, agriculture is an infinitely wide arena covering vast choices including bio medical sciences, bio-chemistry and international marketing to name a few.   He also felt sad that self-employment doesn’t get the importance it deserves when we are informing students of various career choices.

Advertisements

12 दिवसीय कला कार्यशाला

सहारनपुर। 5 June | देश के जाने-माने चित्रकारों ने प्रशिक्षु बच्चों के समक्ष कैनवास पर अपनी सर्जना के रंग बिखेरे। राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान द्वारा आयोजित 12 दिवसीय कार्यशाला के पहले दिन विभिन्न राज्यों से आये मूर्धन्य चित्रकारों द्वारा एस.डी. इण्टर कॉलिज सहारनपुर में आयोजित वर्कप में दिन भर उपस्थित रहकर कूंची और रंगों का ऐसा जलवा बिखेरा कि यहाँ उपस्थित प्रशिक्षु बच्चों ने ही नहीं बल्कि अन्य उपस्थित कला प्रेमियों ने सर्जना से साक्षात्कार का भरपूर आनन्द उठाया।

विज्ञानव्रत पेंटिंग बनाने में तल्लीन

विज्ञानव्रत पेंटिंग बनाने में तल्लीन

वर्कशाप की शुरूआत में पूर्व मण्डलायुक्त और चित्रकार आर.पी. शुक्ल द्वारा प्रख्यात चित्रकार डा. विज्ञान व्रत (नोएडा), डा. राम विरंजन (कुरूक्षेत्र), डा. रामबली प्रजापति (दिल्ली) तथा डा. रामशब्द सिंह के साथ मिलकर दीप प्रज्जवलित किया, फिर बाहर से पधारे सभी चित्रकारों द्वारा कैनवास पर अपने हस्ताक्षर करते हुए ऐसे रंग भरे कि वह स्वयं में एक कलाकृति बन गई।

वहाजुल हक (calligraphy expert) हस्ताक्षर करते हुए

वहाजुल हक (calligraphy expert) हस्ताक्षर करते हुए

वर्कशाॅप में डा. जगदीश वर्मा (मुजफ्फरनगर), डा. एस.के. कुशवाहा (कुरूक्षेत्र), डा. विज्ञान व्रत (नोएडा), डा. रश्मि शर्मा (हापुड़), डा. रामबली प्रजापति (दिल्ली), डा. राम विरंजन (कुरूक्षेत्र वि.वि.), डा. प्रतिभा (रूड़की), डा. संतोष बिन्द (इलाहाबाद), डा. ममता सिंह (देहरादून), कमलनाथ, प्रशान्त त्रिपाठी (देवबंद) तथा व्हाजुल हक (मुरादाबाद) ने अपनी कला कृतियाँ बनाई, जिनका प्रदर्शन 17 जून से 19 जून तक नवनिर्मित आर्ट गैलरी में चलने वाली प्रदर्शिनी में अन्य कलाकृतियाँ के साथ किया जायेगा।

एस.डी. कालिज के प्रधानाचार्य सुरेन्द्र मोहन सारस्वत व अन्य

एस.डी. कालिज के प्रधानाचार्य सुरेन्द्र मोहन सारस्वत व अन्य

आर.पी. शुक्ल - चित्रकार, रामशब्द सिंह एवं अन्य

आर.पी. शुक्ल – चित्रकार, रामशब्द सिंह एवं अन्य

डा. ममता सिंह (देहरादून)

डा. ममता सिंह (देहरादून)

दो कलाकारों का स्नेहपूर्ण मिलन - विज्ञान व्रत एवं रामशब्द सिंह

दो कलाकारों का स्नेहपूर्ण मिलन – विज्ञान व्रत एवं रामशब्द सिंह

देश के विभिन्न भागों से आने वाले मूर्धन्य चित्रकार यहां मौजूद थे।

देश के विभिन्न भागों से आने वाले मूर्धन्य चित्रकार यहां मौजूद थे।

राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के जिला समन्वयक अरिमर्दन सिंह गौर ने बताया कि वर्कशाॅप प्रातः 8 बजे से 10 बजे तक एस.डी. इण्टर कालेज में प्रतिदिन चलेगी। श्री गौर ने यह भी बताया कि वर्कशाप में आए प्रशिक्षुओं के आग्रह पर वर्कशाप को सभी उम्र के प्रशिक्षणार्थियों के लिए खोल दिया गया है। पहले इसे कक्षा 9 से 12 तक विद्यार्थियों तक चलाये जाने की ही योजना थी।

कला संगोष्ठी

आई.एम.ए. भवन में आयोजित कला-संगोष्ठी

आई.एम.ए. भवन में आयोजित कला-संगोष्ठी

सहारनपुर : 4 जून । क्या ललित कलायें बच्चों को एक बेहतर इंसान बनाती हैं? क्या वह बच्चों को एक बेहतर कैरियर भी प्रदान कर सकती हैं? क्या ललित कलाओं का मानव जीवन में अभिन्न स्थान होना चाहिये? सहारनपुर में आज आयोजित की गई कला संगोष्ठी इन मुद्दों पर विशिष्ट कलाकारों के विचार आमंत्रित करने के लिये आयोजित की गई थी जिसमें डा. विज्ञान व्रत (मुख्य अतिथि), डा. आर.पी. शुक्ल (अध्यक्षता), डा.एस.के. कुशवाहा, कुरुक्षेत्र वि. विद्यालय, डा. जगदीश वर्मा, मुज़फ्फरनगर, डा. राम विरंजन, डा. रश्मि शर्मा, डा. ममता सिंह, डा. महावीर सिंह, डा. डी.सी. अग्रवाल, डा. मधु जैन, डा. संतोष बिन्द आदि प्रख्यात् कलाकारों व कलाविदों को आमंत्रित करके एक सार्थक प्रयास किया गया कि कला की शिक्षा को एक जन-आन्दोलन का स्वरूप दिया जाये।

इस अवसर पर बोलते हुए डा. आर.पी. शुक्ल ने कहा कि आप जीवन के किसी भी क्षेत्र में कार्य करें, उसमें निपुणता व विशिष्टता हासिल करने से ही सफलता और प्रसिद्धि हासिल होती है। कला तो मानव जीवन के जन्म से ही उसके साथ अभिन्न रूप से जुड़ जाती है। कला का सबसे बड़ा योगदान यह है कि यह एक पीढ़ी को पुरानी सारी पीढ़ियों से जोड़े रखती है। हम यदि अपने 5000 वर्ष पुराने पुरखों के बारे में जानते हैं तो यह सिर्फ कला के बलबूते ही संभव हो पा रहा है। केनवास पर, मिट्टी से, पत्थर पर आकृतियां उकेर कर हम अपने वर्तमान को स्थायित्व देते हैं, उसे अमर कर देते हैं। मुख्य अतिथि पद से बोलते हुए डा. विज्ञान व्रत ने कहा कि यदि हमें बच्चों को संवेदनशील बनाना है तो ललित कलाओं के प्रति उनमें रुचि जाग्रत करने के लिये हमें प्रयास करने होंगे। डा. रामबली प्रजापति ने कला बाज़ार और कला के अर्थशास्त्र पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर बाहर से विशेष आमंत्रण पर पधारे सभी अतिथियों को शॉल ओढ़ा कर सम्मानित किया गया।

इससे पहले गोष्ठी का शुभारंभ करते हुए राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के जिला समन्वयक अरिमर्दन गौड़ ने इस कला-अभियान के महत्व एवं उपादेयता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आज की पीढ़ी कला से दूर हो रही है, स्कूल कालेजों में कला विषय व कला संकाय धीरे – धीरे बन्द किये जा रहे हैं क्योंकि इन विषयों के लिये छात्र ही नहीं मिल रहे हैं। समाज में विषमता, कटुता, वैमनस्य बढ़ रहे हैं। कला को जीवन से दूर करने के ये दुष्परिणाम सामने आ रहे हैं। ऐसे में हमारा प्रयास है कि देश के लब्धप्रतिष्ठ कलाकारों को एक मंच पर लाकर इस मुद्दे पर न सिर्फ चर्चा कराई जाये बल्कि उनके व्यक्तित्व व कृतित्व से बच्चों को प्रेरित किया जाये, उनको रोल मॉडल के रूप में बच्चों के सम्मुख प्रस्तुत किया जाये। इसके लिये 5 जून से 15 जून तक स्थानीय एस.डी. इंटर कालिज में कला की कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें विशिष्ट कलाकार अपनी कला का प्रदर्शन बच्चों के सम्मुख करेंगे ताकि बच्चे एक कलाकृति का निर्माण होता हुआ अपने सम्मुख देख सकें और उससे प्रेरणा ग्रहण कर सकें। इसके पश्चात्‌ दि. 16 जून को एस.डी. इंटर कालिज में ही कला प्रतियोगिता का आयोजन किया जायेगा। 17 जून से 19 जून तक स्थानीय जनमंच में सद्यःनिर्मित वातानुकूलित कलादीर्घा में कला प्रदर्शनी का आयोजन किया जायेगा।

कार्यक्रम का संचालन राकेश शर्मा ने किया।

SRE News Capsule 17 May

Students force roll back of fee at JVJ College

The agitating students of Drawing and Painting department at J V Jain College got an order issued by the V.C., CCS University for rolling back of increased fee. A delegation of students led by Dr. Vivek Agrawal and Students Union activist Manjeet Singh, Sahdev Gurjar, Gajendra Sharma, Meenakshi, Sapna, Ruhina Nusrat etc., had met the Vice Chancellor Mr. Goyal to apprise him of the hardships being faced by the students in the wake of unscheduled fee hike without any notice.  The VC having sensed the emergency like situation issued instructions to take the hike back to a lot of exhileration of the agitated students.

The I/charge of Examination A.K. Jain told the newspersons that the forms will now be submitted with revised fee on Friday morning.

Results declared in various schools and colleges

It is season for joyous celebrations interspersed by occasional gloom which result from the results of annual exams being declared in various schools these days.  While in Behat Principal Mukesh Kamboj of Shaheed Udham Singh Memorial School, Dandauli Khera congratulated the successful students and gave away trophies and certificates, the students of Maharshi Dayanand Junior High School, Saharanpur also had a gala time celebrating their success after year-long hard work.

K P Singh, the State Secretary of U.P. Recognised Schools Teachers Association (non-financed) expressed his faith that the talented students of today will form the solid backbone of the nation.  Before his address, the students offered Saraswati Vandana and a welcome song.  Chhavi Mittal, Ankita, Sakshi, Swati, Pravesh, Tinku, Shivani, Sonia and Saurabh etc. were among those students who stood in merit.

Quantum Global distributes scholarships

Toppers Institute of Science and Mathematics together with Quantum Global Campus gave away scholarships to the students.  Prashant Gautam of St. Mary’s Academy and Rudra Pratap of Rainbow got Rs. 5,000/- each by way of scholarship.  The students thanked the institutions for this financial support which came their way as a coveted scholarship.

मदर टेरेसा कालिज ने मनाया नाइटिंगेल के जन्म दिन

सहारनपुर – १२ मई ।  नर्सिंग जैसे सेवाभावी व्यवसाय की शिरोमणि मानी जाने वाली फ्लोरेंस नाइटिंगेल का जन्म दिन प्रति वर्ष नर्सिंग डे के रूप में मनाया जाता है।  हाथ में प्रकाश लिये मरीज़ों की सेवा करती हुई फ्लोरेंस नाइटिंगेल की छवि किसी भी मरीज़ के हृदय में आशा का संचार कर देने के लिये काफी है। सेवा की साक्षात्‌ प्रतिमूर्ति फ्लोरेंस नाइटिंगेल का जन्म दिन मदर टेरेसा नर्सिंग स्कूल व हॉस्पिटल में भी यदि नहीं मनाया जायेगा तो और कहां मनाया जायेगा?

कार्यक्रम का शुभारंभ संस्था के अध्यक्ष डा. एस. एस. राणा, पलक राणा, शशि राव, निर्मल व श्रीमती अनूप कुमारी ने मां सरस्वती और मिस फ्लोरेंस नाइटिंगेल की प्रतिमा के समक्ष संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित करके किया।   इस अवसर पर अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन किया गया।  जहां सरस्वती वन्दना प्रस्तुत करते हुए विशाखा ने कार्यक्रम को आरंभ किया, वहीं मेघा, ललिता, सोनम ने पंजाबी गाने पर समूह नृत्य प्रस्तुत कर कार्यक्रम को एक नया मोड़ दिया।  बबीता रानी ने अठ्ठरा बरस की गाने पर धमाल मचाया तो रूबी कमाल और गौरव कुमार ने ज़ूबी – ज़ूबी गाने पर सबको झूमने पर विवश कर दिया।  ’डांस पे चांस मार ले’ गाने पर नृत्य करके दिव्या शर्मा ने सब की वाहवाही लूटी।

नृत्य संगीत के दौर के बाद कार्यक्रम को गंभीरता प्रदान करते हुए डा. एस. एस. राणा ने फ्लोरेंस नाइटिंगेल के जीवन चरित्र का परिचय दिया। उन्होंने बताया कि फ्लोरेंस नाइटिंगेल का जन्म इटली के एक धनाढ्य परिवार में १२ मई १८२० को हुआ था और १७ वर्ष की आयु तक पहुंचते पहुंचते उन्होंने अनुभव कर लिया था कि उनके जीवन का सर्वप्रमुख उद्देश्य मरीज़ों की सेवा करना ही है।  उन्होंने नर्सिंग स्कूल की भी स्थापना की।

महिला व्यक्तित्व विकास प्रशिक्षण शिविर का आयोजन

सहारनपुर – ११ मई ।   बालाजी सोशल वैल्फेयर सोसायटी, जन कल्याण महिला विकास समिति और Personality Development मंच ‘उमंग-तरंग’ के संयुक्त तत्वावधान में आज बालाजी एकेडमी में “महिला व्यक्तित्व विकास प्रशिक्षण  शिविर का आयोजन किया गया।  कार्यक्रम की मुख्य अतिथि डा. कुदसिया अंजुम ने इस अवसर पर प्रतिभागी महिलाओं को जीवन व कैरियर में सफलता के टिप्स देते हुए कहा कि अपनी क्षमताओं को लेकर  आत्म विश्वास मन में हो, हमें जो कहना है, करना है, उसके बारे में हमारा दृष्टिकोण स्पष्ट हो तो हमारी वाणी में प्रभाव स्वयमेव ही आ जाता है।   यदि हम स्वयं ही आशंकित हों कि हम जो कह रहे हैं वह सही है या नहीं तो हम दूसरे को प्रभावित कैसे कर सकते हैं?

इससे पूर्व बालाजी एकेडमी की प्रबन्ध निदेशिका  डा. नीलम ठाकुर व प्रधानाचार्या मीनाक्षी कपूर,  उमंग-तरंग की अध्यक्ष अवनीत कौर व जन कल्याण महिला विकास समिति की महासचिव अनामिका शर्मा और वेद प्रकाश पोपली ने अतिथियों का स्वागत किया और उनका परिचय कराया।   अवनीत कौर ने इस कार्यक्रम के आयोजन के महत्व पर प्रकाश डाला ।   वेद प्रकाश पोपली ने आगे भी ऐसे आयोजन करते रहने का विश्वास दिलाया।

कैरियर प्रशिक्षण अभियान

Career Counselling Workshop at SIMT, Saharanpur

Career Counselling Workshop at SIMT, Saharanpur

सहारनपुर २१ अप्रैल –  आज के दौर में जबकि नौकरी पाने के लिये प्रतिस्पर्द्धा कठिन और अधिक कठिन होती जा रही है,  सहारनपुर के छात्र-छात्राएं महानगरों की तुलना में किसी भी ढंग से कमतर साबित न हों, यह उद्देश्य लेकर द सहारनपुर डॉट कॉम ने सहारनपुर के युवाओं को कैरियर को संवारने हेतु प्रशिक्षण का अभियान हाथ में लिया है, जिसके अन्तर्गत आज सरस्वती इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमैंट टैक्नोलोजी के छात्र-छात्राओं के लिये संस्थान के परिसर में कैरियर काउंसिलिंग कार्यशाला का आयोजन किया गया।  द सहारनपुर डॉट कॉम के संस्थापक संचालक सुशान्त सिंहल, जो शिवालिक बैंक में मानव संसाधन विभाग के प्रमुख भी हैं, ने कार्यशाला में भाग ले रहे बीबीए, बीसीए, एमबीए, एमसीए, पीजीडीबीएम तथा पीजीडीसीए के छात्र-छात्राओं को बताया कि वह जो तकनीकी जानकारी प्राप्त कर रहे हैं, वह तो आवश्यक है ही, उसके अलावा व्यवहार कुशलता एवं कार्यकुशलता का महत्व भी बहुत अधिक है।  उन्होंने सिम्त संस्थान के छात्र-छात्राओं की कैरियर संबंधी अनेकानेक जिज्ञासाओं का समाधान करते हुए बताया कि नौकरी चाहने वाले प्रत्याशियों के सम्मुख सबसे बड़ी चुनौती यह होती है कि वह पहले ही राउंड में बाहर न हो जायें इसके लिये उनको क्या क्या करना चाहिये। Continue reading

उड़ान – एक अद्‍भुत पहल

जिस देश में प्रौढ़ शिक्षा अभियान के नाम पर सरकार अरबों रूपये फूंक कर भी खाली हाथ खड़ी हैं, उसी देश में ऐसे भी लोग हैं जो अपनी जेब से पैसे खर्च करके, और धीरे – धीरे अपने मित्रों और परिचितों को साथ जोड़ कर ऐसे बच्चों को शिक्षा का वरदान देने के लिये आगे आ जाते हैं जिन्होंने कभी किसी स्कूल को यदि देखा होगा तो सिर्फ इसलिये कि वहां आस-पास से कुछ कूड़ा बीन सकें । Continue reading

आओ कैरियर बनायें !

इस पृष्ठ पर हम स्टाफ की आवश्यकता से संबंधित जानकारी उन सभी पाठकों के लाभार्थ देने जा रहे हैं, जो शिक्षित बेरोजगार हैं अथवा अपना कैरियर बनाने की ओर अग्रसर हैं। इस बारे में अपना पंजीकरण कराने के लिये व और अधिक जानकारी के लिये आप 8307642257 पर संपर्क कर सकते हैं।

यदि आप नियोक्ता (employer) हैं और आपको अपने प्रतिष्ठान के लिये स्टाफ की आवश्यकता है, तो भी आप 8307642257 पर संपर्क कर सकते हैं। हम अपने डाटाबेस में से आपके उपयुक्त प्रत्याशी के विवरण आपको भेज सकते हैं।

We are providing useful information here for the benefit of those readers who are unemployed graduates or are trying to switch over to some better career / job.  In order to register yourself, please contact us at 83076 42257.

If you are an employer and looking for right kind of candidates for your organisation, you are also welcome to contact us at 8307642257.  We will look into our large database of candidates for suitable candidates for you and will refer them to you.